LATEST ARTICLE
latest

728x90

468x60

Tech
randomposts4

blogger

blogger/block-1

Latest Articles

Google tag manager क्या है google tag manager क्यों यूज़ करते है


Google tag manager, google company, website, script, tag,social media sharing buttons ,core file
Google tag manager क्या है  
नमस्कार दोस्तो आप सभी का एक बार फिर से स्वागत है मेरे ब्लॉग है। आज मैं आया हु एक नए आर्टिकल के साथ और इस आर्टिकल में मैं आप सभी को बताऊंगा Google tag manager के बारे की Google tag managerkya होता है Google tag manager का यूज़  क्यों करते है। तो चलिए जानते है Google tag manager के बारे में और वो भी सिंपल भाषा मे

Google tag manager क्या है 


Google tag manager का नाम तो आप सभी ने सुना होगा पर  क्या आप ये जानते है कि Google tag manager होता क्या है कुछ लोग को पता होगा Google tag manager के बारे में कुछ लोगो को नही और Google tag manager के बारे में उन्ही लोगो को पता होगा जिन्होंने इसके बारे में पड़ा होगा या फिर जो लोग इसका इस्तेमाल करते है और जिन लोगो को नही पता होता है वो इसका लाभ नही उठा पाते है
 क्योंकि उनको Google tag managerr के बारे में पता ही नही होता है लेकिन इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको पता हो जाएगा Google tag manager के बारे में और आप भी इसका लाभ उठा पाएंगे
 और आप भी लोगो को बता पाएंगे Google tag manager के बारे में तो चलिए जानते है Google tag manager के बारे में।
Google tag manager, google company का एक फ्री tool है जिसका इस्तेमाल blogger या web developer और web designer अपने blog या website के tag और script को ऐड करने के लिए करते है 
 Google tag manager  में आप एक ही जगह अपने ब्लॉग या वेबसाइट के सारे tag  और script को ऐड कर सकते है और  Google tag manager  को use करने के लिए ज्यादा coading के बारे में जानने की जरूरत नही होती है Google tag manager को आप आसानी से use कर सकते है क्योंकि इसका design बहुत ही simpal है जिससे Google tag manager को use करने में आसानी होती है

Google tag manager को use क्यों करते है

ऊपर तो आप लोगो ने जाना Google tag manager के बारे में की Google tag manager क्या होता है अब आप जानने की Google tag manager का use क्यों करते है जैसा की आप सभी जानते है कि Google tag manager का इस्तेमाल tag या script को ऐड करने के लिए किया जाता है 
पर हम अपने blog या website के tag,Google tag manager में ही ऐड क्यों करे तो चलिए इसके बारे में जानते है
जब कभी आप blog या website बनाते हो तो उस blog को seo friendly या फिर attractive बनाने के लिए उसमे बहुत सारे tag और script ऐड करने पड़ते है 
जिसके लिए आपको blog की core file में जाकर ऐड करने होते है जिससे बहोत ही ज्यादा problem होती है यदि आपने पहली बार blog या website बनाया है 
तो आपको core file के बारे में ज्यादा पता नही होगा तो ऐसे में आपको problem होगी tag या script को core file में ऐड करने में क्योकि अगर main coading से छेड़छाड़ की तो आपके blog में problem आ सकती है  तो ऐसे में काम आता है Google tag manager  जिससे आप बड़ी ही आसानी से अपने tag या script को ऐड कर सकते है चाहे वो social media sharing buttons का script हो या फिर Google analytics का script हो आप बड़ी ही आसानी से इन सारे tag को ऐड कर सकते है क्योंकि google tag manager का interface काफी simpal होता है जिससे आसानी होती है
google tag manager को use करने से आपके website की loading time काम हो जाती है loading time कम होने का मतलब ये है कि आपके website की speed बढ़ जाती है 
और आपके website की speed इसलिए बढती है क्योंकि आप अपने वेबसाइट के script और tag को ऐड करने के लिए google tag manager का इस्तेमाल कर रहे है जिससे आपके website या blog की size काम हो जाती है और size कम होने की वजह से website की speed बढ़ जाती है जिससे आपके blog या website google जल्दी rank करता है 

google tag manager का use नहीं करेंगे तो क्या होगा


ऊपर आपने जाना Google tag manager क्यों use क्यों करते है अब हम जानेंगे की Google tag manager का use न करने पर क्या होगा तो चलिए इसके बारे में जानते है

Google tag manager का इस्तेमाल न करने से आपके वेबसाइट की साइज बढ़ जाती है क्योंकि आप अपने blog या website में social media sharing buttons के script को ऐड करना चाहते है
 तो उस script को website के main coading में ऐड करना पड़ेगा यदि आपने अपने blog या website में चार से पाँच स्क्रिप्ट ऐड करते है तो आपके website की speed slow हो जाती है
 और हर कोई अपने वेबसाइट में कम से कम 8 से 10 script तो ऐड करता ही है यदि आप google tag manager का use करते है तो आपको अपने वेबसाइट में सिर्फ  Google tag manager  का सिर्फ एक ही script  ऐड करना पड़ेगा

 और आप बाकी के स्क्रिप्ट को google tag manager में add कर दो जिससे आपको आसानी भी होगी और आपके website की speed भी बढ़ जाएगी

     इसे भी पड़े


मुझे उम्मीद है कि अब आप लोगो google tag manager के बारे में पता चल गया होगा यदि इस आर्टिकल के पड़ने के बाद भी कोई doubt है तो नीचे comment करके पूछ सकते है
यदि आपको हमारा ये आर्टिकल अच्छा लगा तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ share करो ताकि उन्हें भी थोड़ा बहोत knowledge हो जाये google tag manager के बारे में, धन्यवाद

RAM क्या है RAM कैसे काम करती है RAM के बारे में पूरी जानकारी

RAM,random access memory, internal memory ,information ,smartphone users , super multitasking
RAM क्या है RAM कैसे काम करती है 

नमस्कार दोस्तो आप सभी का एक बार फिर से स्वागत है मेरे ब्लॉग  पर आज के इस Article  में हम जानेंगे RAM  के बारे में  की RAM  क्या होती है  RAM से सभी smartphone users परिचित है क्योंकि जब आप नया Mobile लेने जाते हैं तो आपके मन में यही सवाल रहता है आपको कितने gb वाला  RAM वाला मोबाइल लेना चाहिए जिससे आगे चल कर आप को किसी परेशानी का सामना ना करना पड़े RAM की अगर बात की जाए तो कंप्यूटर हो या लैपटॉप आपका मोबाइल सभी डिवाइस में यह बहुत इंपॉर्टेंट चीज है क्योंकि इसी वजह से हर Device बेहतर काम करते हैं यदि आप भी नहीं जानते हैं  RAM के बारे में तो आज  हम आपको बताने वाले हैं  RAM  के बारे में  की  RAM  क्या होता है और आपके मोबाइल या कंप्यूटर में कितनी RAM  होनी चाहिए

Ram kya hai

सबसे पहले आपको बताते हैं RAM  की  full form क्या  होता है  RAM की  फुल फॉर्म होती है random access memory, RAM की full form  से तो इसके बारे में कोई खास पता नहीं चल रहा है तो आइये इसे एक सिंपल example के  जरिए समझने की कोशिश करते हैं मान लीजिए आप किसी office  में बैठे हैं और आपको काम करने के लिए एक file  की जरूरत है और वो  file किसी दूसरे कमरे में रखी हुई है तो जब भी आपको काम करना होगा तो आप दूसरे कमरे में जाएंगे और उस    file को ले आएंगे और आप उस file को table पर रखकर काम करने लग जाएंगे जब आपका काम हो जायेगा तो आप उस   file को फिर से उसे कमरे में रख देंगे जहा से आप उस file को लाये थे  और जो  RAM ,mobile   में होती है वह कुछ इसी तरीके से काम करती है जो   file वाला दूसरा कमरा है उसे आप internal memory  मान सकते हैं जिसमें आपकी सारी  file और application है और जो table  है वह आपकी RAM हो गई जिस पर आप काम करते हैं तो यहां इसका काम आप के आदेश के अनुसार यानी कि आपकी direction के अनुसार किसी app  को ला करके उसेrun करना है जो कि किसी भी ऐप को ओपन होने में कुछ सेकंड का टाइम लगता है और यह इसलिए होता है क्योंकि RAM की स्पीड बहुत fast होती है तो यहां इसका काम आपके instruction के according  किसी भी application  को ला करके उसे रन करना है क्योंकि किसी भी app ओपन होने में कुछ सेकंड का टाइम लगता है ये इसलिए होता है क्योंकि राम की स्पीड बहुत फास्ट होती है आप इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि 1GB राम को बनाने में उतना  खर्च आता है जितना कि 16GB की मेमोरी कार्ड बनाने में होता है तोcpu  को जो फाइल चाहिए होती है RAM उन्हें जल्दी से जल्दी भेजने का काम करती है जब आप किसी गेम को install करते हैं तो वो RAM में install नहीं बल्कि वह फोन की internal memory  में internal  होता है और जब आप game   पर क्लिक करते हैं  तो game  रन करने  तो  फ़ोन की मेमोरी से  RAM पर आ जाता है और RAM काम करने लग जाती है इस बीच में सीपीयू और RAM के बीच बहुत तेजी से information  का आदान-प्रदान होता है लेकिन जब आपके computer  या मोबाइल की  RAM कम  होती है और अप्प कई  बड़ी app  खोलकर रन रहे होते हैं तो इस सिचुएशन में मोबाइल या कंप्यूटर हैंग होने लगता है इसीलिए कहा जाता है कि ज्यादा RAM मल्टीटास्किंग के लिए उपयोगी होती है और वैसे भी आजकल तो super multitasking  है  व्हाट्सप्प भी देखना है फेसबुक भी देखना है

RAM का होना  कितना जरूरी है 


तो चलिए अब ये जानते है की RAM का होना कितना जरूरी है  तो ाक के टाइम में देखा जाए तो किसी भी मोबाइल में कम से कम 2 gb  होनी चाहिए क्योंकि आजकल की एप्लीकेशन की साइज धीरे-धीरे बढ़ रहा है जैसे फेसबुक की बात करे तो  जब फेस बुक ओपन होता है तो 200 से 300 एमबी RAM खर्च हो जाती है और फेसबुक ही नहीं बाकी के सरे app की साइज बढ़ रही है  इसलिए अगर आप चाहते हैं कि मोबाइल में मल्टी टास्किंग के सके तो मोबइल में काम से काम 2GB रैम होना तो बहुत जरूरी है जिससे कि मोबाइल हैंग होने की प्रॉब्लम से छुटकारा पा सकते हैं वैसे आप चाहे तो 3gb  और 4gb वाले स्मार्टफोन भी ले सकते  हैं अभी तो आपको 2gb वाला फ़ोन काम दे देगा लेकिन future में आपको 2gb में problem आने लग जाएगी   आपको हमेशा ज्यादा RAM वाला फ़ोन ही खरीदनी चाहिए क्योंकि मोबाइल में RAM एक ऐसी चीज है जिसे की बढ़ाया नहीं जा सकता आप मेमोरी कार्ड  लगाकर  internal memory के स्पेस तो बढ़ा सकते हैं लेकिन RAM  को नहीं बढ़ा सकते हालांकि कंप्यूटर में  RAM बढ़ाने का ऑप्शन होता है लेकिन mobile  में ऑप्शन नहीं मिलता है क्योंकि कुछ ऐसी एप्लीकेशन है जो कि रूट होने के बाद फोन की मेमोरी को रैम में बदल देती है लेकिन इससे कुछ ज्यादा फायदा नहीं होता बल्कि मोबाइल  पहले से और भी ज्यादा slow हो जाता है 


मुझे उम्मीद है की आप सभी अब RAM के बारे में जान गए होंगे यदि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते है और इससे आपके दोस्तों को भी  RAM के बारे में मालूम हो जायेगा यदि आप इसी तरह और आर्टिकल पड़ना चाहते है तो हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब  कर ले 

Robot क्या है। robot कितने प्रकार का होता है। robot के बारे में पूरी जानकारी

Robot,artificial intelligence Robot ,Emotional intelligenc,Structure Body , Sensor System ,Muscle System ,Power Source,Brain System
Robot क्या है। Robot कितने प्रकार का होता है
लोग Robot के बारे में हमेशा जानने को तैयार रहते है। Robot कैसे चलता है। और Robot कैसे काम  करता है।Robot लोगो को जवाब कैसे देता है। Robot के बारे में सबसे महत्वपूर्ण बात ये है की Robot intelligent machine के जरिये अपने आप समझता और सोचता है। लेकिन Robot तो वास्तव में मशीन है। फिर भी Robot इन्सानो की तरह कैसे बात करता है।ऐसे बहोत से सवालो के जवाब आपको इस आर्टिकल में मिलेगा 

Robot क्या है 

इंसानों के शरीर में मांसपेशियां रंध्र कोशिकाएं की विशाल संख्या होती है लेकिन हम मशीन में इस तरह के व्यवहार को दोहराने की कोशिश करते हैं तो हम महसूस करते हैं कि ये कितना मुश्किल है सिर्फ इसलिए कि एक Robot को स्थानांतरित करना पड़ता है इसका पालन नहीं होता है कि Robot को किसी व्यक्ति की तरह ले जाना होगा Robot को फैक्ट्री में विशाल हाइड्रोलिक मशीनों से तैयार किया जाता है जो हर काम के लिए अलग-अलग होते हैं और उसको पेंटिंग बिल्डिंग लेजर से काटा जाता है एक इंसान 360 डिग्री के माध्यम से अपनी कलाई को घुमा सकता है लेकिन क्या कारखाने वाला Robot यह कर सकता है आज तो artificial intelligence Robot वास्तव में मौजूद है यह Robot  सारे काम कर सकते हैं Robot  को कैसे विकसित किया गया होगा ऐसे मानव के समान कार्य करने वाले Robot  को बनाने के लिए क्या किया होगा
हम अपनी पांच इंद्रियों के माध्यम से दुनिया का अनुभव करते हैं इससे ही हमारा  सारा नियंत्रित होता है
लेकिन Robot के बारे में क्या उन्हें उनके चारों ओर के चीजों का अनुभव कैसे होता है Robot  के अंग  कैसे काम करते हैं यदि हम यह जान जाएंगे तो Robot  के बारे में पूरी तरह से जान जाएंगे तो चलिए जानते है

Robot के part कैसे काम  करते  है 

1. दृष्टि(vision)

एक Robot  की दृष्टिप्रणाली तीन भागों में बाटी गई है

  •  बायनरी छवि,जिसमे काले और सफेद छबिया सामिल होती है।
  • ग्रे रंग की इमेज
  • लाल हरे नीले रंग के आधार के साथ छवियां

इन तीनों श्रेणियों में वर्गीकृत पिक्सेल की मदद से इलेक्ट्रॉनिक इमेज बनाई जाती है अगर  एक इमेज इन श्रेणियों में से निकल गए तो यह काम नहीं करता है
दृष्टि प्रणाली में छोटा कैमरा और आवश्यक hardware ,software होते हैं इमेज की पहचान करने की पूरी प्रक्रिया को तीन भागों में बांटा गया है

  • इमेज प्रोसेसिंग
  •  थ्रेसोल्ड़िंग
  •  कनेक्टिविटी पथ

2 .सुनना (hearing)

इंसान की श्रवण इंद्रियां गंध स्वाद और स्पर्श से काम करती हैं लेकिन Robot  इस की दुनिया में यह लागू नहीं होता है जहां एक व्यक्ति अपने कानों के साथ सुनता है और एक Robot microphone  का इस्तेमाल करता है ध्वनि को विद्युत तरंगों में परिवर्तित किया जा सके जो डिजिटल रूप में संसाधित हो सके सरल आवाज सुनना और समझने में बड़ा अंतर है लेकिन यह क्षमता मशीन की समस्या से परे नहीं है कंप्यूटर सफलतापूर्वक इंसानों की भाषा पहचानने के लिए अपग्रेड हो रहे हैं अब Robot  हमारी आवाज सुन सकते हैं और उसका जवाब भी दे सकते हैं स्क्रीन पर शब्दों को विश्वास पूर्वक प्रिंट कर सकते हैं

3 . गंध(smell)

क्या आप सोच सकते हैं कीRobot के नाक को कैसे बनाया जाता है यह सही सेंसर बनाने की बात है हमारे पास बहुत सारे मशीन है जो स्पेक्ट्रोमीटर और गैस क्रोमेटोग्राफी जैसे केमिकल को पहचान सकते हैं जिसे Robot  के नाक में लगाया जाता है। ताकि गंध को पहचाना जा सके

4.भावनात्मक बुद्धि(Emotional intelligenc)

Robot  को बुद्धिमान यानी बहुत ही समझदार माना जाता है Robot  का माइंड मनुष्य के माइंड से कई गुना तेज काम करता है और किसी भी चीज को बहुत ही जल्दी याद कर लेता है ऐसेRobot  का निर्माण इमोशनल एक्सपर्ट ही करते हैं जो मानव भावनाओं को समझा सकते हैं और इसी तरह ही रोबोट मनुष्य का सब काम आसान कर देता है

Robot के  मुख्य  भाग 

  • Structure Body 
  • Sensor System
  • Muscle System
  • Power Source
  • Brain System

Robot कितने प्रकार के होते है 

वैसे देखा जाए तो Robot कई तरह के होते है और कुछ तरह के रोबोट नीचे दिए गए है।

1 औद्योगिक रोबोट | Industrial Robots


Industrial Robots का इस्तेमाल बड़ी बड़ी कंपनी में जैसे कि गूगल,अमेज़न,इन जैसी बड़ी company में चीजो को ले जाने में और चीजो को बनाने में किया जाता है इनका इस्तेमाल मोबाइल के पार्ट बनाने में भी किया जाता है।

2 अंतरिक्ष रोबोट | Space Robots 


स्पेस रोबोट कुछ ज्यादा ही advance Robot  होते हैं किन किन का इस्तेमाल स्पेस होता है इसलिए इन्हे advance बनाया जाता है ताकि स्पेस में कोई प्रॉब्लम ना आ जाए और इस प्रेस Robot  सबसे ज्यादा एडवांस Robot होती है

3 आर्मी रोबोट | Military Robots


मिलिट्री Robot  का इस्तेमाल आर्मी में लड़ाई लड़ने के लिए होता है इस तरह के रोग और कोई स्पेशल traning दी जाती है उनको इस software  को ऑटोमेटिक बनाया जाता है ताकि दुश्मन को आसानी से मार सके

4 मनोरंजन रोबोट | Entertainment Robots


जैसे कि नाम से ही पता चल रहा है इंटरटेनमेंट Robot  को इंटरटेनमेंट परपज के लिए बनाया जाता है इस तरह के Robot  डांस भी कर सकते है 

5 शर्प रोबोट snake robot


Snake robot का आकार साँप के आकार जैसा होता है इसका इस्तेमाल खास तौर पर जासूसी करने के लिए किया जाता है क्योंकि इसका आकार छोटा होता है

6 मेडिकल रोबोट | Medical Robots


Medical robot का इस्तेमाल खास तौर पे medical industry में किया जाता है ये Robot  को केमिकल को मिक्स से लेकर केमिकल बनाने तक किया जाता है और इस तरह के robot की मांग medical industry में बढ़ती जा रही है


7 घरेलू रोबोट | Domestic robot


Domestic robot का यूज़ घर के काम काज करने के लिए किया जाता है।चाहे फिर वो घर का कोई भी कम हो ये Robot बड़ी ही आसानी से घर के सारे काम करते है।

Driver pack solution क्या है और Driver pack solution को डाउनलोड कैसे करे

Driver pack solution,how to download driver pack solution,
Driver pack solution क्या होता है 
Driver pack solution का  नाम तो आप सभी ने सुना होगा पर सायद कम ही लोगो को मालूम होगा ड्राइवर पैक सलूशन के बारे में तो इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा Driver pack solution के बारे में की Driver pack solution क्या होता है और इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है और Driver pack solution  कैसे काम करता है।

Driver pack solution क्या होता है

Driver pack solution एक तरह  का सॉफ्टवेयर होता है या फिर आप driver utility भी कह सकते है  जिसमे कंप्यूटर के सारे ड्राइवर होते है  जैसा कि आप सभी जानते है कि कंप्यूटर या लैपटॉप में तरह तरह के component लगे होता है चाहे वो कीबोर्ड हो या माउस और  इन सभी को चलाने के लिए device driver की जरूरत होती है जैसे कि एक कार को चलाने के लिए ड्राइवर की जररूत होती है यदि ड्राइवर ना हो तो कार नही चल पाएगी। ठीक  ऐसे ही कंप्यूटर के सारे component को चलाने के लिए  driver की जररूत होते है यदि कंप्यूटर में  driver  न हो तो कंप्यूटर बहुत  से  component काम नहीं करेंगे  जैसे की,जब कभी आप अपने  कंप्यूटर या लैपटॉप में pendrive लगाते हो  तब कभी कभी pendrive सपोर्ट नही करता है क्योंकि उस कंप्यूटर या लैपटॉप में pendriver का ड्राइवर नही है। जब कभी आप कंप्यूटर को फॉरमेट करते हो  तो उसमें का सारा data और software यहाँ तक  की Driver  भी डिलेट हो जाता है  उसके बाद उस कंप्यूटर या लैपटॉप में फिर से Driver  इनस्टॉल करना पड़ता है यदि आप ड्राइवर install  नही करते है तो ऐसे में कंप्यूटर में बाहर से कोई भी  component लगावोगे  तो वो component  काम  नही करेगा  क्योंकि उस component  का ड्राइवर आपने कंप्यूटर या लैपटॉप में इनस्टॉल नही किया है।जैसे कि आप कीबोर्ड लगाना  चाहते हो तो उसका भी ड्राइवर होता है यदि आप वो ड्राइवर आपके computer में install नही है तो keyboard काम नहीं करेगा और तब इस  सिचुएशन में काम आती है Driver pack solution जिससे आप computer मेंDriver को बड़ी ही आसानी से install कर सकते हो

Driver pack solution क्यों यूज़ करते है 

आप सभी जानते है कि keyboard,mouse,printer,pendrive,etc इन सभी को चलाने के लिए Driver  की जरूरत होती है। और यदि आप इंटरनेट से keyboard,mouse,printer,pendrive का ड्राइवर एक एक करके download  करोगे तो काफी  ज्यादा टाइम लग जायेंगे क्योंकि इंटरनेट पे इन सभी का ड्राइवर ढूढ़ना पड़ेगा और फिर download करके इंसटाल करना पड़ेगा तो ऐसे में आप सभी का काफी  ज्यादा टाइम बर्बाद होगा और आप सब अपना टाइम बचाने के लिएDriver pack solution का इस्तेमाल कर सकते है।क्योंकि Driver pack solution में आपको सभी तरह के ड्राइवर मिल जाएगा चाहें वो keyboard,mouse,printer,pendrive,motherboard का ड्राइवर हो या फिर किसी और component का और आप बड़ी ही आसानी से एक बार मे ही अपने कंप्यूटर या लैपटॉप के लिए सारेDriver  डाउनलोड कर सकते है

Driver pack solution के features

Driver pack solution का फीचर काफी अच्छा क्योंकि इससे आपको Driver को डाउनलोड करने में कोई परेशानी नही होती है 

  • ये ऑटोमेटिक ही सारे ड्राइवर इनस्टॉल कर देता है सिर्फ आपको इसको अपने कंप्यूटर में रन करना होता है
  • इसको आप ऑनलाइन और ऑफलाइन भी उसे कर सकते है।
  • इससे आप सॉफ्टवेयर भी इनस्टॉल कर सकते है
  • Driver pack solution  iso फॉर्मेट में मिलता है   

Driver pack solution कैसे काम करता है 

Driver pack solution के सॉफ्टवेयर  को कंप्यूटर या लैपटॉप में रन करना होता  है फिर रन होते ही स्कैन  का ऑप्शन आता है फिर उसपे क्लिक करने के बाद Driver pack solution  आपके कंप्यूटर को स्कैन करता है फिर जो भी ड्राइवर आपके कंप्यूटर के लिए जरूरी होता है वो डिस्प्ले कर देता है 

setup details  


  • name:  Driver pack solution
  • setup type:  offline installer and standalone setup 
  • latest version:  17.9.3
  • setup size:  17 GB
  • developer:   Artur kuzyakov

Driver pack के लिए system requirement


  • Compatibility: 32 bit and 64 bit
  • Operating System:  Windows XP, Windows 7, Windows 8, Windows 10
  • Ram-minimum: 1 GB
  •  Processor: Intel dual-core or AMD processor

Driver pack solution कैसे डाउनलोड करे 

Driver pack solution  को आप Driver pack solution के ऑफिसियल वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते है लेकिन वहा से जल्दी डाउनलोड नहीं होता है क्योकि वहा से जो लिंक मिलती है वो बहुत जल्दी expire हो जाती जाती है तो आप निचे दिए गए डाउनलोड button पे क्लिक करके डाउनलोड कर सकते है